सोमवार, 20 अप्रैल 2009

अवधी महोत्सव संपन्न

प्रथम सत्र
लखनऊ,29अप्रैल 2009,उत्तरप्रदेश हिन्दी संस्थान के निराला सभागार में अवध भारती समिति हैदरगढ, बाराबंकी द्वारा आयोजित अवधी महोत्सव-2009 प्रो. सूर्यप्रसाद दीक्षित जी की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। अपने अध्यक्षीय भाषण में समकालीन अवधी साहित्य के सरोकार विषय पर बोलते हुए प्रो.दीक्षित ने कहा-“अवधी का इतिहास बहुत पुराना है,और इसका साहित्य विश्वस्तरीय है,शब्दभंडार बहुत व्यापक है। यह भाषा प्राचीन काल से ही केन्द्रीय भाषा रही है। इसने कभी भी अपनी पृथक मान्यता की माँग नही की। इसकी जनप्रियता निरंतर असंदिग्ध रही है। आज विभिन्न विधाओं में अवधी साहित्य रचा जा रहा है।” अवधी महोत्सव 2009 का उद्घाटन हिन्दी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ.शंभुनाथ ने किया। उन्होने अपने उद्घाटन भाषण में अवधी साहित्य की विशेषताओं का उल्लेख किया।
अवधी महोत्सव 2009 के आयोजक,अवध भारती समिति के महामंत्री डॉ.रामबहादुर मिश्र ने अपने संबोधन में कहा –“जिस भावना के साथ आज से बीस वर्ष पूर्व अवध भारती का बीज बोया गया था उसे फलता-फूलता देख जो प्रसन्नता हो रही है- वह शब्दातीत है।समय ने एक नया आवाहन किया है,हम सब अवधी अनुरागी एक संगठित शक्ति के रूप में कटिबद्ध हो चुके हैं।”
विचार गोष्ठी के संचालक डॉ.सुशील सिद्धार्थ ने विषय प्रवर्तन किया “भूमंडलीकरण के दौर में स्थानीयता का महत्त्व बढ गया है।अवधी को अपनी ऐतिहासिक भूमिका निभाने के लिए तैयार रहना चाहिए।”
बोली बानी के संपादक जगदीश पीयूष ने कहा-“हिन्दी का महत्त्वपूर्ण साहित्य अवधी में ही है,चाहे वह संत साहित्य हो ,भक्ति साहित्य हो या फिर वह सूफी साहित्य हो। फैजाबाद के डॉ.राजनरायन तिवारी ने कहा-अवधी श्रेष्ठजनों की भाषा है,उसने सदैव शाश्वत मूल्यों और प्रगतिवादी विचारधारा को प्रश्रय दिया”। इस अवसर पर डॉ.अशोक अज्ञानी,डॉ.त्रिलोकीनाथ सिंह,डॉ.अनामिका श्रीवास्तव,डॉ.सुरेशप्रकाश शुक्ल,डॉ.उषा सिन्हा,जगन्नाथ त्रिपाठी,डॉ.श्यामसुन्दर दीक्षित,डॉ.गौरीशंकर पाण्डेय,डॉ.ज्ञानवती दीक्षित ने भी अपने विचार व्यक्त किये।
लोकार्पण:
इस अवसर पर डॉ.रामबहादुर मिश्र द्वारा संपादित नखत-3 ,अवध ज्योति,सूर्य प्रसाद शर्मा निशिहर की कृति:म्वार नाव आजाद तथा राना बेनी माधव, रश्मिशील की कृति कोखजाये,रामनिवास पंथी की कृति महोबा की ऐतिहासिक लोक कथायें,डॉ.अशोक अज्ञानी की कृति रामजुहारि, एवं अमृतायन(त्रैमासिकी),कुसुम की काव्य कृति कुसुमांजलि, शिवनारायणन मिश्र की कृति मोटर खड़ी जाम गलियारा डॉ. गौरीशंकर पाण्डेय की कृति चीख और चहक का लोकार्पण किया गया।

द्वितीय सत्र:
दूसरे सत्र में हिन्दी संस्थान के निदेशक डॉ.सुधाकर अदीब की अध्यक्षता में अवधी कविसम्मेलन हुआ जिसमें-डॉ.अशोक अज्ञानी,डॉ.सुरेशप्रकाश शुक्ल,रामकशोर तिवारी,जगदीश पीयूष,सुशील सिद्धार्थ,अजय प्रधान,भूपेन्द्र दीक्षित,रजनी निशा,इन्द्रबहादुर सिंह,रश्मिशील,अम्बरीश अम्बर,रामेश्वर द्विवेदी,लोकतंत्र शुक्ल सहित अनेक कवियों ने काव्य पाठ किया। संस्था के अध्यक्ष ओम प्रकाश जयंत ने सबके प्रति आभार व्यक्त किया।

नखत योजना:--

समकालीन अवधी कवियों की रचनात्मक चेतना का मह्त्त्वपूर्ण दस्तावेज़
संपादक: डॉ. रामबहादुर मिश्र ,प्रकाशक:अवध भारती समिति हैदरगढ़ बाराबंकी ,उ.प्र. फोन:09450063632
नखत -1 के कवि
1.आनंद प्रकाश अवस्थी
2.बृजेन्द्र मिश्र
3.गुदडी के लाल
4.ओमप्रकाश जयंत
5.डॉ.गौरीशंकर पाण्डेय
‘अरविन्द’
6.शेषपाल सिंह शेष
7.लक्ष्मी प्रसाद प्रकाश
8.जगदीश सिंह नीरद
9.श्यामनारायण अग्रवाल
‘विटप’
10.राम कृष्ण संतोष
11.डॉ.रामबहादुर मिश्र
‘अवधेन्दु’

नखत-2 के कवि

1-डॉ.महेश प्रतापनारायण
अवस्थी
2.सत्यधर शुक्ल
3.आद्याप्रसाद सिंह’प्रदीप
4.डॉ.भारतेन्दु मिश्र
5.योगेन्द्र बहादुर सिंह
‘आलोक सीतापुरी’
6.डॉ.राघव बिहारी सिंह
7.सच्चिदानन्द तिवारी ‘शलभ’
8.शिवप्रसाद गुप्त ‘पागल’
9.डॉ.श्यामसुन्दर मिश्र ‘मधुप’

नखत-3 के कवि


1.जगदीश “पीयूष’
2.डॉसुशील सिद्धार्थ
3.भूपेन्द्र दीक्षित
4.आचार्य सूर्यप्रसाद शर्मा ‘निशिहर’
5.इन्द्रबहादुर सिंह ‘इन्द्रेश’
6.अजय सिंह वर्मा’अजय’
7.रजनी श्रीवास्तव ‘निशा’
8.डॉ.अशोक अज्ञानी

2 टिप्‍पणियां:

sanjaygrover ने कहा…

हुज़ूर आपका भी एहतिराम करता चलूं ..........
इधर से गुज़रा था, सोचा, सलाम करता चलूंऽऽऽऽऽऽऽऽ

ये मेरे ख्वाब की दुनिया नहीं सही, लेकिन
अब आ गया हूं तो दो दिन क़याम करता चलूं
-(बकौल मूल शायर)

MAYUR ने कहा…

अच्छा लिखा है आपने और सत्य भी , शानदार लेखन के लिए धन्यवाद ।

मयूर दुबे
अपनी अपनी डगर